HEADLINES


More

by : pramod goyal

फरीदाबाद, 17 जुलाई। नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के राज्य प्रधान नरेश कुमार शास्त्री ने कहा कि सरकार प्रदेश के सफाई कर्मचारियों से किये हुये वायदों एवं समझौतों को लागू नहीं करके प्रदेश के सफाई कर्मचारियों को हडताल करने के लिये मजबूर कर रही है 24 से 25 जुलाई तक 24 घंटी की क्रमि
क भूख हडताल करेंगे। यदि सरकार ने 25 जुलाई तक संघ के साथ बैठक का आयोजन कर मानी गई मांगों को लागू नहीं किया तो प्रदेश की 61 नगर पालिकाओं, 16 नगर परिषदों व 10 नगर निगमों के 32 हजार से ज्यादा सफाई कर्मचारी एवं तृतीय व चतुर्थ श्रेणी तथा फायर के कर्मचारी अनिश्चित कालीन हडताल पर चले जायेंगे।
श्री शास्त्री आज नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के आह्वान पर सैक्टर-12 स्थित उपायुक्त कार्यालय पर संघ के जिला प्रधान गुरचरण खांडिया की अध्यक्षता में जिला स्तरीय प्रदर्शन से पूर्व आयोजित की गई विशाल कर्मचारी सभा को समबोधित कर रहे थे। प्रदर्शन के बाद संघ नेताओं ने उप-मण्डल अधिकारी नागरिक सतबीर मान को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन प्रेषित कर पालिकाओं, परिषदों व नगर निगमों के कर्मचारियों की मांगों का समाधान करने की अपील की है। प्रदर्शन का नेतृत्व नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा की राज्य उपाध्यक्ष बृजवती, राज्य ऑडिटर बिशन स्वरुप तेवतिया, केन्द्रीय कमेटी के नेता कमला व सुभाष फैंटमार, संघ के जिला सचिव नानक चन्द खैरालिया, सफाई कर्मचारी यूनियन के प्रधान बलबीर सिंह बालगुहेर आदि नेता कर रहे थे।
श्री शास्त्री ने हरियाणा सरकार को दलित विरोधी बताते हुये कहा कि सरकार विभिन्न कर्मचारी संगठनों को वार्ता के लिये बुला रही है लेकिन दलितों में अति दलित सफाई और सीवर सफाई जैसा घृणित कार्य करने वाले सरकारी विभागों निगम, पालिका, परिषद, बोर्ड, कारपोरेशन यूनिवर्सिटियों व ग्रामीण सफाई कर्मचारियों की सुध नहीं ले रही है। इसका खामियाजा सरकार को निकटवर्ती विधानसभा चुनाव में भुगतना पडेगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने 2014 में विधानसभाओं के चुनाव में घोषणा पत्र व पालिका कर्मचारियों की 9 मई से 24 मई तक चली 16 दिन की हडताल के बाद सरकार द्वारा तीन मंत्रियों की कमटी बनाकर पालिका कर्मचारियों से किये गये समझोते में स्थानीय निकायों में ठेका प्रथा में कार्यरत सफाई व सीवर कर्मचारियों सहित फायर तथा तृतीय व चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को ठेका प्रथा से मुक्त कर विभागीय रोल पर रखने, कच्चे कर्मचारियों को नियमित करने के लिये कमेटी गठित करने व नियमित होने तक समान काम-समान वेतन लागू करने, एक्सग्रेसिया पॉलिसी बहाल करने, तृतीय व चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को बिना लाभ हानि के आवासीय कालोनियों का निर्माण करने, सफाई कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 15 हजार रुपये देने तथा फायर के 1366 फायर मैनों व ड्राइवरों को फायर में समायोजित करने आदि मांगों पर सहमति बनी लेकिन सरकार ने एक वर्ष बाद भी समझौते को लागू नहीं किया है।
आज के जिला स्तरीय प्रदर्शन में सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के राज्य सगंठनकर्ता विरेन्द्र सिंह डंगवाल, एटक के राज्य नेता बेचू गिरी, जिला प्रधान अशोक कुमार ने भी पालिका कर्मचारियों के आन्दोलन का पुरजोर समर्थन किया।
प्रदर्शन को अन्य के अलावा क्रमिक नेता सोमपाल झिंझोटिया, श्रीनन्द ढकोलिया, बल्लू चिंडालिया, दर्शन सिंह सोया, प्रेमपाल, दान सिंह, रघुबीर चौटाला, जितेन्द्र छाबड़ा, विरेन्द्र भड़ारी, वेदप्रकाश, महेन्द्र कुण्डिया, जगदीश बालगुहेर, बल्लू चिण्डालिया, धर्म बेनीवाल,  मुकेश बेनीवाल, नरेश भगवाना, राकेश चिंडालिया, राजेन्द्र दहिया, रामकिशोर त्यागी, वेद भडाना, मेघश्याम, अनिल चिंडालिया, महिला नेता ललिता, माया, रामवती, कमलेश, शकुन्तला आदि ने भी समबोधित किया।

by : pramod goyal
करनाल. यहां फूसगढ़ इलाके में चोरों ने पैसों से भरा एटीएम उखाड़ लिया। चोर एटीएम को ठेला (रेहड़ी) पर लादकर ले जा रहे थे। इस दौरान वह एक कॉलोनी में घुसे तो चौकीदार उन्हें रोककर पूछताछ करने लगा। आरोपियों ने उसकी पिटाई कर दी। इसके बाद शोर-शराबा सुनकर कॉलोनी के लोग जाग गए। वह चोरों को पकड़ने के लिए भागे तो चोर ठेले पर लदा एटीएम छोड़कर भाग गए। एटीएम का कैश सुरक्षित है। 
पुलिस ने बताया कि कर्ण विहार के लोगों ने बताया कि सुबह 3.30 बजे तीन युवक एक ठेले को खींचते हुए ले जा रहे थे। उस पर एटीएम रखा था, जिसे कपड़े से ढक रखा था। उनके पास एक बाइक भी थी। चौकीदार को लगा कि उसमें फ्रिज है। लेकिन, जब वह पूछने लगा तो उसकी पिटाई कर दी। इसके बाद स्थानीय लोग आ गए, जिसके बाद चोर एटीएम और ठेला वहीं छोड़कर फरार हो गए। 
पुलिस ने बताया कि चोरों ने टाटा कंपनी के इंडिकैश एटीएम को फूंसगढ़ रोड से उखाड़ा था। वे रेहड़ी भी चोरी करके लेकर आए थे। एटीएम को वहीं छोड़कर आरोपी भागे तो कॉलोनी वालों ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने एटीएम को कब्जे में ले लिया है। सदर थाना एसएचओ बलजीत सिंह का कहना है कि उन्होंने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
by : pramod goyal
फरीदाबाद। आर ए एफ की 194 नंबर बटालियन ने बल्लभगढ़ तहसील में आने वाले सभी थानों में जाकर वहां के एरिया की ली जानकारी।
आपको बताते चलें कि आर ए एफ की 194 नंबर बटालियन फरीदाबाद में प्राकृतिक आपदा के समय फरीदाबाद पुलिस का साथ देने के मध्य नजर तै
नात की गई है।
आर ए एफ फोर्स असिस्टेंट कमांडेंट लालचंद शर्मा ने अपनी टीम सहित आज बल्लभगढ़ तहसील में आने वाले थाना शहर बल्लभगढ़, आदर्श नगर, छायंसा, सदर बल्लभगढ़ का विजिट किया है।
पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि आर ए एफ की टीम फरीदाबाद के सभी थानों का भौगोलिक क्षेत्र की जानकारी हासिल करेगी।
ताकि प्राकृतिक आपदा जैसे भूकंप, बाढ़, एवं अन्य के समय जल्द से जल्द वहां पर पहुंचा जा सके और रिसक्यू अभियान चलाया जा सके। 
by : pramod goyal
फरीदाबाद। विद्यासागर स्कूल की उपलब्ध्यिों में एक और उपलब्धि शामिल हो गई है। विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल तिगांव के परिसर में चल रही विद्यासागर कबड्डी अकादमी के खिलाड़ी तरूण उपाध्याय का चयन टेन स्टोटर्स द्वारा स्पोंसर्ड बेस्ट प्रो कबड्डी में हुआ है। तरूण उपाध्याय सितंबर में गोवा में लगने वाले ट्रेनिंग कैंप में हिस्सा लेंगे। तरूण की इस कामयाबी पर स्कूल के चेयरमैन श्री धर्मपाल यादव ने उन्हें मिठाई खिलाकर शुभकामनाएं दीं और आगे भी अपनी मेहनत औ
र लगन से उन्नति करने के लिए प्रोत्साहित किया। इससे पहले भी अकादमी के खिलाड़ी प्रशांत राजपूत का चयन जस्ट कबड्डी लीग में हो चुका है। इसके अतिरिक्त विद्यासागर कबड्डी अकादमी की टीम नेशनल कबड्डी लीग में द्वितीय स्थान प्राप्त कर चुकी है जिसका आयोजन आगरा में २३ से २५ जून तक हुआ। गौरतलब है कि विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल के परिसर में विभिन्न खेल एकेडमी चलाई जाती हैं जिसमें विद्यासागर क्रिकेट एकेडमी, आर्चरी एकेडमी, ताइक्वांडो एकेडमी एवं कबड्डी एकेडमी शामिल हैं। सभी एकेडमियों में बच्चों के हुनर को निखारने और उन्हें राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी बनाने के लिए सभी विश्वस्तरीय सुविधाएं, ट्रेनिंग इक्यूप्मेंट, कोच एवं कोचिंग इन्वायरमेंट उपलब्ध है। कबड्डी की तरह की आर्चरी एकेडमी के कई छात्र राष्ट्रीय स्तर पर बेहतर प्रदर्शन कर चुके हैं।


by : pramod goyal
फरीदाबाद: रांची की अदालत के उस फैसले को देश के तमाम वकील गलत बता रहे हैं जिसमे जज मनीष कुमार सिंह ने ऋचा भारती नाम की एक युवती को पांच कुरान बांटने के आदेश दिए थे। सबसे पहले रांची बार एसोशिएशन ने इस फैसले का विरोध किया उसके बाद देश के कई राज्यों में फैसले का विरोध शुरू हो गया। बार एसोशिएशन के पूर्व प्रधान एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के प्रधान एडवोकेट एलएन एन पाराशर ने कहा कि इस तरह की जमानत की शर्त नहीं लगाई जा सकती है। अगर मामला जमानती हो तो मैजिस्ट्रेट सिर्फ बेल बॉन्ड भरवाकर जमानत देता है। अगर मामला गैर जमानती हो और तब जमानत दी जा रही हो तो फिर मैजिस्ट्रेट को सीआरपीसी के प्रावधान के हिसाब से ही शर्त लगानी होती है। मसलन जमानत पर छूटने के बाद आरोपी शिकायती को धमकी नहीं देगा या उससे संपर्क की कोशिश नहीं करेगा, गवाहों को प्रभावित करने की कोशिश नहीं करेगा, सबूतों के साथ छेड़छाड़ नहीं करेगा। कोर्ट को बिना बताए शहर या देश नहीं छोड़ेगा आदि लेकिन कुरान बांटने की शर्त सीआरपीसी के प्रावधान के बाहर की बात है। 
एडवोकेट पाराशर ने कहा कि फैसला हैरान कर देने वाला है और ऐसे फैसले से देश में सामाजिक माहौल और बिगड़ सकता है। पाराशर ने कहा कि किसी को किसी समुदाय के बारे में लिखने का कोई हक़ नहीं है लेकिन वर्तमान समय में सोशल मीडिया पर एक दो नहीं हजारों लोग ऐसा लिखते हैं और अगर जिस तरह ऋचा भारती को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया उसी तरह और गिरफ्तारियां होने लगीं तो देश में जेलें कम पड़ जाएंगी। पाराशर  ने कहा की उनकी संस्था इस फैसले का विरोध करती है और मांग करती है कि ऐसा फैसला सुनाने वाले जज को निलंबित किया जाए। इस मौके पर एडवोकेट विश्वेन्द्र अत्री, एडवोकेट एनएस मान,  एडवोकेट संजीव सिंह,  एडवोकेट कैलाश वशिष्ठ आदि मौजूद थे। 
आपको बता दें कि रांची की 19 वर्षीय छात्रा ने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर किया था। पोस्ट में धर्म विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी का आरोप था। इसी मामले में उन पर मामला दर्ज कर उन्हें तीन दिन के लिए जेल भेज दिया गया। सोमवार को छात्रा ऋचा पटेल को कोर्ट ने जमानत दी और शर्त रखी कि उन्हें कुरान की पांच कॉपी बांटनी होगी। इसी फैसले का  देश भर में विरोध हो रहा है। 
by : pramod goyal
फरीदाबाद। राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सराय ख्वाजा में प्राचार्या नीलम कौशिक के निर्देशानुसार स्टूडेंट पुलिस कोर का गठन किया गया। विद्यालय के अंग्रेजी प्रवक्ता व जूनियर रेडक्रास तथा सैंट जॉन एम्बुलेंस ब्रिगेड प्रभारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा ने स्टूडेंट पुलिस कोर की जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस प्रशासन के दिशानिर्देश और सहयोग से
विद्यालय के कक्षा नौ और कक्षा दस के कुल तीस चयनित बच्चों को स्टूडेंट पुलिस कोर में शामिल किया गया है, इस का प्रभारी विनोद कुमार अग्रवाल को बनाया गया है। रविन्द्र कुमार मनचंदा ने आगे जानकारी सांझा करते हुआ बताया कि पुलिस प्रशासन द्वारा इन सभी तीस बच्चों को प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि समय आने पर ये अपने दायित्व ठीक प्रकार से निभा सके और पुलिस प्रशासन के निर्देशानुसार गतिविधियों में बढ़ चढ़ कर प्रतिभागिता कर अपने कर्तव्यों का निर्वहन उचित प्रकार से कर सकें। प्राचार्या नीलम कौशिक, रविन्द्र कुमार मनचंदा, रेणु शर्मा, विनोद अग्रवाल और बिजेंद्र सिंह ने सभी तीस स्टूडेंट पुलिस कोर के सदस्यों को पुलिस प्रशासन द्वारा उपलब्ध करवाई गई फुल ड्रेस जिस में शर्ट, पैंट, कैप, बैज, शोल्डर स्ट्रिंग, शोल्डर बैज, बेल्ट, सोक्स, शूज़ आदि मिला कर सम्पूर्ण ड्रेस प्रदान की। सभी तीस बच्चे ड्रेस प्राप्त कर गौरवान्वित महसूस कर रहे थे। इसके पश्चात सभी बच्चों को मानसिक और शारीरिक रूप से अपने आप मजबूत रहने की प्रेरणा भी दी गई।

by : pramod goyal
फरीदाबाद, 17 जुलाई - जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए, फरीदाबाद द्वारा विज्ञान, प्रबंधन, कला व अन्य संकायों के अंडरग्रेजुएट पाठ्यक्रमों में दाखिल हुए नये विद्यार्थियों के लिए एक सप्ताह के इंडक्शन कार्यक्रम का आयोजन कि
या जा रहा है। कार्यक्रम को विद्यार्थी कल्याण प्रकोष्ठ की देखरेख में आयोजित किया जा रहा है।
कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती वंदना और गायत्री मंत्र के उच्चरण से हुआ, जिसे विद्यार्थी क्लब के सदस्यों द्वारा प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम को राजकीय कालेज, खेड़ी गुजरान में सहायक प्रोफेसर (मनोविज्ञान) डाॅ. तनुश्री दहिया ने संबोधित किया तथा विद्यार्थियों को सकारात्मक मनोविज्ञान के विभिन्न पहलुओं से अवगत करवाया। उन्होंने बताया कि किस तरह विद्यार्थी स्वयं को सकारात्मक रखते हुए अपना व्यक्तित्व विकास कर सकते है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता डीन स्टूडेंट वेलफेयर डाॅ. नरेश चैहान ने की। उद्घाटन सत्र को मानविकी विभाग के अध्यक्ष डाॅ. अतुल मिश्रा, विभिन्न विज्ञान विभागों के अध्यक्ष डाॅ. अशुतोष दीक्षित तथा प्रबंध अध्ययन विभाग के अध्यक्ष डाॅ. आशुतोष निगम ने भी संबोधित किया तथा विद्यार्थियों को विभाग की गतिविधियों से परिचित करवाया। इस अवसर पर प्रबंध अध्ययन विभाग के डीन डाॅ. अरविन्द गुप्ता भी उपस्थित थे।
इस अवसर पर विश्वविद्यालय पर आधारित डाक्यूमेंटरी प्रदर्शित की गई तथा योग क्लब निरामयंम के विद्यार्थियों ने योग प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का संचालन डिप्टी डीन स्टूडेंट वेलफेयर डाॅ. सोनिया बंसल ने किया तथा विद्यार्थी कल्याण प्रकोष्ठ द्वारा संचालित विभिन्न क्लबों की गतिविधियों पर प्रस्तुति दी।
कार्यक्रम को द्रोणाचार्य राजकीय कालेज, गुड़गांव के संस्कृत विभाग में प्रोफेसर डाॅ. जगदम्बे वर्मा और भारतीय शिक्षक मंडल के सचिव पुष्पेन्द्र राठी ने भी संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने विद्यार्थियों से सीधा संवाद किया तथा उन्हें भारतीय संस्कृति और नैतिक मूल्यों के विभिन्न पहलुओं से अवगत करवाया। 
by : pramod goyal
फरीदाबाद: निगमायुक्त अनीता यादव बहुत अच्छा काम कर रहीं हैं और आशा है कि अरावली पर बने लगभग 150 अवैध फ़ार्म हाउस जल्द वैसे ही किये जाएंगे जैसे कांत एन्क्लेव के अवैध निर्माण ध्वश्त किये गए हैं। ये कहना है बार एसोशिएशन के पूर्व अध्यक्ष एवं न्यायिक सुधार संघर्ष समिति के अध्यक्ष एडवोकेट एलएन पराशर का जिन्होंने कहा कि अवैध फ़ार्म हाउसों पर कार्यवाही न होने के कारण दिन-प्रतिदिन अरावली पर बड़े-बड़े फ़ार्म हाउस बनते चले जा रहे हैं। पाराशर ने कहा कि अरावली के उजड़ने के कारण ही अब मानसून फरीदाबाद से दूर होता जा रहा है क्यू कि इस समय देश के कई राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है और फरीदाबाद में मौसम विभाग की भविष्यवाणी अधिकतर फेल साबित हो रही है। 
पाराशर ने कहा कि आज से लगभग ढाई दशक पहले फरीदाबाद में कई-कई हफ्ते लगातार बारिश होती थी लेकिन अब मानसून सीजन में गिनती के दिनों की बारिश होती है क्यू कि फरीदाबाद क्षेत्र में अरावली को 70 फीसदी तक उजड़ा जा चुका है। उन्होंने कहा कि शहर में कई बड़ी कालोनियां हैं जहाँ लाखों लोग रहते हैं लेकिन कालोनियों में गिनती के भी पेड़ नहीं हैं। अरावली फरीदाबाद को बचाती थी और अरावली पर लाखों छोटे-बड़े पेड़ होते थे लेकिन उसे उजाड़ दिया गया। वहां बड़ी-बड़ी इमारतें बन गईं, बड़े बड़े फ़ार्म हाउस बन गए जिस कारण एक तरह फरीदाबाद सबसे प्रदूषित शहर बन गया तो दूसरी तरफ यहाँ से मानसून भी रूठ गया। 
पाराशर ने कहा कि अरावली को किसी एक ने नहीं लूटा, सबसे मिलकर लूटा, वहाँ नेताओं, बड़े अधिकारियों और भूमाफियाओं के फ़ार्म हाउस हैं और यही कारण हैं कि नगर निगम के अधिकारी दावे तो बड़े बड़े करते हैं लेकिन किसी फ़ार्म हॉउस को हाँथ तक नहीं लगाते। पाराशर ने कहा कि नगर निगम के बड़े अधिकारी कई बार कह चुके हैं कि अरावली के अवैध फ़ार्म हॉउस तोड़े जाएंगे लेकिन कार्यवाही भी करते हैं  पांच फ़ीट की कोई दीवार तोड़कर चले आते हैं। 
पाराशर ने कहा कि पिछले डेढ़ वर्षों में मैंने अरावली का 100 बार से ज्यादा दौरा किया और देखा कि कहीं कोई पहाड़ ध्वश्त कर पत्थर निकाल रहा है तो कहीं कोई पेड़ काट जमीन समतल कर बड़े-बड़े फ़ार्म हाउस बनाने की तैयारी कर रहा है। पाराशर ने कहा कि निगमायुक्त अनीता यादव शहर से अतिक्रमण हटवा रही हैं, ग्रीन बेल्ट को माफियाओं के कब्जों से मुक्त करवा रही हैं। उन्हें अरावली पर भी ध्यान देना चाहिए और जल्द से जल्द अवैध फ़ार्म हाउसों को ध्वश्त  करा वहां पेड़ लगवाएं ताकि आने वाली पीढ़ी बेमौत न मरे। उन्होंने कहा कि मैंने इस बारे में मैंने हरियाणा के मुख्यमंत्री और डीसी फरीदाबाद सहित निमायुक्त को पत्र  लिखा है और जल्द अवैध फ़ार्म हाउसों पर कार्यवाही की मांग की है। 
by : pramod goyal
नई दिल्ली:  
बीजेपी संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी ने उन मंत्रियों पर नाराजगी जाहिर की है जो रोस्टर ड्यूटी के दौरान भी गायब रहते हैं. उन्होंने कहा कि ऐसे मंत्रियों के नाम शाम तक बता दिए जाएं. इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने सांसदों से भी कहा है कि वह राजनीति से हटकर काम करें. पीएम मोदी ने कहा कि सांसदों को मौजूदा जल संकट पर काम करना चाहिए. उनको अपने क्षेत्र के अधिकारियों के साथ बैठकर जनता की समस्या पर बात करनी चाहिए. पीएम मोदी ने कहा कि सांसदों से कहा कि उन्हें अपने क्षेत्र के लिए कोई एक अनूठा काम करना चाहिए और जिला प्रशासन के साथ मिलकर काम करें. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जानवरों की बीमारी, टीबी और कुष्ठ रोग जैसी बीमारियों पर मिशन मोड में काम करना चाहिए. गौरतलब है कि पिछली बार भी संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी ने सख्त रुख अपनाया था. उन्होंने अनुशासन के मुद्दे पर साफ कहा था कोई भी हो या किसी का बेटा हो कार्रवाई होनी चाहिए. उस दौरान बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश विजयवर्गीय का अधिकारी के साथ बदसलूकी करना पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया था. पीएम मोदी के इस बयान के बाद आकाश विजयवर्गीय को पार्टी की ओर से नोटिस जारी हो गया. वहीं उत्तराखंड के विधायक कुंवर प्रणव चैंपियन को हथियारों के साथ डांस करने पर निलंबित कर दिया गया.