HEADLINES


More

by : pramod goyal

 फरीदाबाद: "उपाय एक फायदे अनेक", इसी कथन को सही साबित करते हुए फरीदाबाद पुलिस आयुक्त श्री ओपी सिंह के दिशा निर्देशों के तहत कार्य करते हुए आज फरीदाबाद के थाना पल्ला व थाना ओल्ड पुलिस द्वारा ड्रोन उड़ाकर चिन्हित किए गए भीड़भाड़ वाले स्थानों पर निगरानी की गई।



पुलिस आयुक्त श्री ओपी सिंह ने कल ही इसकी जानकारी देते हुए बताया था कि ड्रोन के माध्यम से फरीदाबाद के विभिन्न स्थानों पर निगरानी रखी जाएगी और मात्र एक दिन के अंतराल में पुलिस आयुक्त ने अपने द्वारा कही गई बात को पूरा भी कर दिखाया।

श्री ओ पी सिंह द्वारा फरीदाबाद के पुलिस आयुक्त का पदभार संभालने के पश्चात अभी तक लिए गए फैसलों और उनके कार्य करने के तरीकों को देखकर कहा जा सकता है कि श्री ओपी सिंह हवा में बातें न करके समझदारी से फैसला लेते हैं और अपने द्वारा किए गए वादों को पूरा करने का दमखम भी रखते हैं।

अपने मजबूत और नेक इरादों के दम पर श्री ओपी सिंह ने फरीदाबाद के लोगों की सहायता के लिए अनेक कार्य किए और साथ ही अपराधों पर कंट्रोल स्थापित करते हुए जिले में घटित हुई आपराधिक वारदातों में शामिल अपराधियों को हाथों हाथ सजा दिलवाने का काम भी किया।

इसी दिशा में एक कदम और आगे बढ़ाते हुए फरीदाबाद में कोरोना महामारी के नियंत्रण के लिए भीड़भाड़ वाले 24 ऐसे स्थान चिन्हित किए गए जहां पर लोगों द्वारा कॉविड नियमों का पालन अच्छे से नहीं किया जाता। 

चिन्हित किए गए इन स्थानों पर ड्रोन द्वारा निगरानी रखी जा रही है ताकि इन स्थानों पर कोविड नियमों का उल्लंघन करने वाले लोगों पर निगरानी रखी जा सके।

ड्रोन के माध्यम से ऐसे स्थानों की वीडियोग्राफी करके बनाई गई वीडियो को सुरक्षित रखा जाएगा जिसे बाद में आवश्यकता पड़ने पर उपयोग में लिया जा सकेगा।


ड्रोन टेक्नोलॉजी के माध्यम से कॉविड के साथ-साथ अपराधों पर लगाम लगाने में भी सहायता मिलेगी। ड्रोन कैमरा की सहायता से ऐसे स्थानों पर घठित हुई अपराधिक वारदातों में शामिल लोगों पर निगरानी रखकर आसानी से उनकी पहचान की जा सकेगी और उनकी तलाश करके उनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस आयुक्त श्री सिंह ने बताया कि उनका लक्ष्य अधिक से अधिक लोगों को कोविड से सुरक्षित रखा जाए, इसके लिए जिला पुलिस द्वारा लोगों को इस महामारी से बचने की सावधानियों के बारे में जागरूक किया जा रहा है।

आमजन से अनुरोध करते हुए उन्होंने कहा कि जब तक जरूरी न हो घर से बाहर ना निकले और यदि किसी काम के लिए घर से बाहर निकलना भी पड़े तो मास्क का प्रयोग करें।भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें, 2 गज दूरी बनाकर रखें और सैनिटाइजर का समय-समय पर उपयोग करें।

कोविड नियमों का उल्लंघन करके कानूनी कार्रवाई के भागीदार न बने और अपने साथ-साथ अपने परिजनों को भी इस महामारी से बचाने में सहयोग करें।
by : pramod goyal

 फरीदाबादः कोरोना संकट के ध्यान में रखते हुए तिगांव रोड़ स्थित षिरडी साई बाबा टेंपल सोसयटी ने  19 अप्रैल 2021 से प्रतिदिन कोविड मरीजांे को जो अपने घरों में कोरन्टाइन हैं उनको उनके घर पर प्रतिदिन दिन का और रात का भोजन पहुँचाने का कार्य कर रही है। साईधाम हमेशा से ही सेवा के कार्यों में बढ़-चढ़कर कार्य करता रहा है और करता रहेगा। षिरडी साई बाबा टेंपल सोसायटी के


संस्थापक मोतीलाल गुप्ता ने बताया कि साई बाबा ने जरूरतमंद लोगों की सेवा का संदेष दिया है। इसलिए हमने कोरोना के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए भोजन की सेवा शुरू की है। ताकि कोविड मरीजों भोजन की दिकत न हो। कोविड मरीज जब तक स्वस्थ न हो जाएं तब भोजन मंगवा सकते है। कोविड मरीज संस्था में फोन करके अपने लिए खाना मंगवा सकता है। आज जब देश पर विपदा आई है तो हम सबको एकजुट होकर इसका सामना करना है। समाज और परिवार की सुरक्षा इसी में है कि सभी लोकडाउन का पालन करें व कोरोना से बचने के लिए सरकार द्वारा बनाये गए निर्देशों का पालन करें। तभी हम कोरोना को हरा सकते हैं। दिनांक 22.04.2021 दोपहर भोजन के 178 रात्रि भोजन के 44 पैकेट कोविड मरीजों के घर पहुंचाए गये। दिनांक 23.04.2021 दोपहर भोजन के 140 पैकेट रात्रि भोजन के 30 पैकेट कोविड मरीजों के घर पहुंचाए गये। इस कार्य में षिरडी साई बाबा टेंपल सोसायटी के स्टाफ मेंम्बर मैनेजर के ए पिल्लै, प्रिसिंपल बीनू शर्मा, सीमा गुलाटी, विकास राय, जय त्रिपाठी, विनोद शर्मा, भोला प्रसाद, जगदीष कपूर, किषोरी नन्दन, विक्रांत वर्मा आदि इस कार्य में सहयोग दे रहे हैं।

by : pramod goyal

 फरीदाबाद अपैरल मेड अप एंड होम फर्निशिंग सेक्टर स्किल काउंसिल (एएमएच एसएससी) द्वारा इंडस्‍ट्री की जरूरत को देखते हुए विशेष तौर पर मैनेजमेंट डेवलपमेंट प्रोग्राम (एमडीपी) तैयार किया गया है। शुक्रवार को ऑनलाइन प्‍लेटफॉर्म जूम के जरिये औपचारिक तौर पर इसकी शुरुआत की गई। एएमएच एसएससी के सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंसटेक्सटाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया की दिल्‍ली यूनिट और इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर (दिल्‍ली सेंटर) मिलकर युवाओं को मेडिकल टेक्सटाइल और सुरक्षात्मक परिधान (मेडिकल) तकनीक और कार्यान्वयन पर प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद उन्‍हें सर्टिफिकेट कोर्स भी दिया जाएगा।

बतौर मुख्‍य अतिथि एएमएच एसएससी के सीईओ व महानिदेशक डॉ. रूपक वशिष्ठटेक्सटाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया से रितेशइंस्‍टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग के चेयरमैन दिनेश कुमारवन नॉर्थ कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्‍टर शैलेश कौशिक मौजूद रहे।

इस मौके पर डॉ. रूपक वशिष्ठ ने बताया कि इस समय देश-दुनिया कोरोना वायरस के संक्रमण से गुजर रही है। वैसे में इस वायरस से लड़ने के लिए मास्‍क और पीपीई किट की जरूरत है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा परिधान उत्पादक देश है। अपैरल क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियां अपने मौजूदा संसाधनों में थोड़ा सा बदलाव और प्रशिक्षण लेकर मेडिकल टेक्सटाइल और सुरक्षात्मक


परिधान का उत्‍पादन कर सकती है और देश को इस क्षेत्र आत्मनिर्भर बनाने के साथ दूसरे देशों में आपूर्ति कर वहां के लोगों के जीवन बचाने में अपना योगदान दे सकती है।

उन्होंने बताया कि भारतीय परिधान निर्यात उद्योग व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) किट के उत्पादन को बढ़ाने और वैश्विक बाजारों में सबसे बड़ी हिस्सेदारी रखने की योजना पर काम कर रहा है। इससे इस क्षेत्र में प्रशिक्षित लोगों की जरूरत होगी। एएमएच एसएससी अपने दो सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस के जरिये इस क्षेत्र में कुशल लोगों को तैयार करने की पहल की है। इस कार्यक्रम के मौके पर अपैरल जगत के कई गणमान्य लोग मौजूद है। इस मौके पर कई सवालों के जवाब भी एएमएचएसएससी के पदाधिकारियों ने दिए। 


by : pramod goyal

 फरीदाबाद, 23 अप्रैल। उपायुक्त डॉ. गरिमा मित्तल ने कहा कि चिकित्सक बड़ी मेहनत के साथ काम कर रहे हैं। कोविड मरीजों का ईलाज करते हुए वह पॉजिटिव हो जाते हैं और ठीक होने के बाद फिर से अपने काम में जुट जाते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ यह लड़ाई हमें मिलकर लडऩी होगी। हम सभी को प्रशासन के साथ भी तालमेल करके चलना होगा ताकि व्यवस्था को और अधिक बेहतर बनाया जा सके। उपायुक्त डॉ. गरिमा मित्तल शुक्रवार को लघु सचिवालय के छठे तल स्थित कांफ्रेस हॉल में जिला के सभी निजी अस्पतालों के संचालकों के साथ मीटिंग को संबोधित कर रही थी।


उपायुक्त ने कहा कि मौजूदा समय में कोविड-19 के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसमें कम लक्षण वाले व्यक्ति भी अस्पतालों में बैड ले रहे हैं। ऐसे हमें यह देखना है कि अस्पताल में बैड जरूरतमंद व्यक्ति को ही मिले। उन्होंने कहा कि हमारे लिए गरीब व अमीर सभी बराबर हैं और हमें सभी को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवानी है। उन्होंने कहा कि हमारे पास दवाओं और ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। हम दिन-रात इस कार्य में जुटे हुए हैं।
उन्होंने कहा कि सभी निजी व सरकारी अस्पतालों में दाखिल होने वाले मरीजों की निगरानी के लिए प्रशासनिक अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। इसमें सीटीएमएसीपी व डिप्टी सीएमओ को नियुक्त किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक अस्पताल को एडमिशन व डिस्चार्ज की जानकारी देनी होगी। ऐसे मरीजों की जानकारी भी रखनी होगी जो घरों में अपना ईलाज करवा रहे हैं।

इस दौरान उन्होंने सर्वोदय अस्पताल की प्रशंसा करते हुए कहा कि अस्पताल द्वारा मरीजों को घरों में ही एडमिट कर उन्होंने होम सर्विस देनी शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि यह एक बेहतरीन व्यवस्था है। इसमें हमें मरीज को ओक्सीमीटरऑक्सीजन और दवाओं के साथ-साथ टेलीफोन से सलाह देनी है। उन्होंने कहा कि इससे अस्पतालों का काफी बोझ कम होगा और लोगों को अच्छी सुविधाएं भी मिलेंगी। उन्होंने सर्वोदय अस्पताल द्वारा ही ग्रेटर फरीदाबाद स्थित जीवा केयर को टेकओवर कर वहां अस्थाई तौर पर 48 बैड की होम आईसोलेशन जैसी व्यवस्था करने के लिए भी बधाई दी। मीटिंग में एशियन अस्पताल द्वारा बताया गया कि उन्होंने ग्रेटर फरीदाबाद में अपने बनने वाले अस्पताल में अस्थाई तौर पर 20 बैड की व्यवस्था मरीजों की सुविधा के लिए की है। इस दौरान उपायुक्त ने सभी अस्पतालों की बैडआईसीयू व ऑक्सीजन बैड की स्थिति की भी क्रमवार ढंग से जानकारी ली। इसके साथ ही ऑक्सीजन की आवश्यकता की जानकारी भी उपायुक्त ने सभी अस्पताल संचालकों से ली। मीटिंग में अतिरिक्त उपायुक्त सतबीर मानसीटीएम मोहित कुमारसीएमओ रणदीप सिंह पुनियाएसीपी सैंट्रल सत्यपाल यादव सहित सभी अस्पतालों के संचालक व कई वरिष्ठ चिकित्सक भी मौजूद थे।

by : pramod goyal

 फरीदाबाद23 अप्रैल। जिलाधीश डॉ. गरिमा मित्तल ने जिले में बढ़ते हुए कोरोना वायरस के प्रकोप को मद्देनजर रखते हुए जिला के 25 सरकारी एवं निजी भवनों को अधिग्रहित करते हुए कोविड केयर सेंटर बनाने के लिए आदेश जारी किए हैं। उनके द्वारा यह आदेश अचल संपत्ति अधिनियम 1973 और महामारी बीमारी अधिनियम 1897 के अंतर्गत हरियाणा महामारी कोविड-19 परिवर्तित 2021 के तहत उन्हें प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए दिए गए है। आदेशों में कहा गया है कि जैसा कि इस समय जिले में कोरोना वायरस से प्रभावित मामलों की संख्या तेजी से बढ़ी है तो अतिरिक्त कोविड केयर सेंटर बनाने की आवश्यकता है। इसलिए यह आदेश जनहित में जारी करने जरूरी हैं। उन्होंने कहा कि कोल्ड केयर सेंटर के रूप में स्थापित किए गए इन 25 भवनों में सेक्टर-2, सेक्टर-व सेक्टर-62 का सामुदायिक भवनअग्रवाल पब्लिक स्कूल सेक्टर-3, आइडियल पब्लिक स्कूल शिव दुर्गा विहारअरावली इंटरनेशनल स्कूल बड़खल सूरजकुंड रोडएनएच-एनआईटी का सामुदायिक भवनमुल्ला होटल एनआईटी नजदीकी पटेल भवनमानव रचना यूनिवर्सिटी बॉयज हॉस्टल नंबर-1, सेक्टर-43 किसान भवन एवं धर्मशाला सेक्टर-16, लिंगयाज यूनिवर्सिटी नजदीक ग्राम नचौली, ग्राम अरूआ का बारात घरग्राम कौराली तिगांव छायंसा व दयालपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रगोल्ड फील्ड हॉस्पिटलआईटीआई भवन ग्राम सिकरोनायादव धर्मशाला सेक्टर-16, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खेड़ीकलाराजस्थान भवन सेक्टर-11, सुधा रस्तोगी डेंटल कालेज खेड़ीकलांसामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ग्राम तिगांव का नया भवन तथा सेक्टर-29 व 30 के सामुदायिक भवन शामिल हैं। जिलाधीश गरिमा मित्तल द्वारा उक्त सभी भवनों में बनाए गए कोविड केयर केंद्रों के प्रबंधन एवं संचालन के लिए बल्लभगढ़ तथा बड़खल के संबंधित उप मंडल अधिकारी एवं इंसिडेंटकमांडर को आदेश दिए गए हैं।    


by : pramod goyal

 फरीदाबादः पुलिस कमिश्नर श्री ओ पी सिंह ने शहर में गुमशुदा बच्चों, महिलाओं और बुजुर्गों को लेकर सभी थाना, चौकी एवं मिसिंग सेल को तलाश करने के आदेश जारी किये है। जिसपर कार्रवाई करते पुलिस चौकी सेक्टर-46 ने नाबालिक लडकी को तलाश करके उसके परिजनों के हवाले किया है।


चौकी प्रभारी ने बताया कि दिनांक 21 फरवरी को मुकेश निवासी फरीदाबाद जो कि एक अध्यापक का काम करते हैं ने सूचना दी की उसकी लडकी घर से बिना बताए कहीं चली गई है। जिसपर तुरंत मुकदमा दर्ज कर नाबालिक लडकी की तलाश करने के लिए पुलिस टीम बनाकर तलाश शुरु कर दी। 

पुलिस टीम ने नाबालिक लडकी के गुम होने कि सूचना कन्ट्रौल रुम में दी। फोटो पुलिस के सोशल मीडिया ग्रुपो में साझा की तथा लडकी के फोन नम्बर को भी ट्रेस पर लगा दिया। 

इलेक्ट्रॉनिक्स की मद्द से लडकी का पता शिवपुरी मध्यप्रदेश का चला। जिस पर तुरन्त कार्रवाई करते हुए लडकी को पुलिस टीम ने बरामद कर फरीदाबाद लेकर आये। लडकी के माता पिता भी चौकी में ही बुलाये। 

पुलिस ने लडकी से घर से जाने का कारण पूछ तो बताया कि माता पिता ने मुझे किसी बात को लेकर डांट दिया था। जो कि पीडिता लडकी ट्रेन से मध्य प्रदेश चली गई थी।

पुलिस टीम ने लडकी के माता पिता को हिदायत दी की वह अपने बच्चों का ध्यान रखे क्योकि बच्चे अगर किसी गलत व्यक्ति के हाथ लग गये तो उनकी जिन्दगी बर्बाद हो सकती है। आपने बच्चों को अकेला न छोडे।

पुलिस टीम ने कानूनी कार्रवाई पूरी कर लडकी को उसके परिवार को सौंप दिया। उन्होने पुलिस का तह दिल से धन्यवाद किया।

by : pramod goyal

 फरीदाबाद, 23 अप्रैल। उपायुक्त गरिमा मित्तल ने बताया कि जिला में कोविड-19 से निपटने के लिए अलग-अलग अधिकारियों को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। उन्होंने बताया कि जिला में विभिन्न अस्पतालों में ऑक्सीजन गैस की सप्लाई सुनिश्चित करने के लिए अतिरिक्त उपायुक्त सतबीर मान को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।


उपायुक्त ने बताया कि जिला में कोविड-19 पॉजिटिव मिलने वाले मरीजों की कांटेक्ट ट्रेसिंग के लिए नगर निगम आयुक्त जितेंद्र कुमार यादव को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। इसके साथ ही जिला का वैक्सीननेशन प्लान (टीकाकरण कार्यक्रम) तैयार करने व टीकाकरण कार्यक्रम को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए लिए सीएमओ डॉ. रणदीप सिंह पुनिया को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। इसके साथ ही कोविड-19 जागरूकता हेतु पुलिस विभाग को जिम्मेदारी सौंपी गई है। प्रशांत अटकान संयुक्त आयुक्त नगर निगम एनआईटी जोन को कोविड कॉल सेंटर की निगरानी एवं नियंत्रण के लिए और मोहित कुमार नगराधीश को सभी तरह के आदेश व निर्देश से सम्बंधित दस्तावेजीकरण के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन कोविड-19 से निपटने के लिए पूरी तरह से गंभीर है। उन्होंने आम लोगों से अपील करते हुए कहा कि वह कोरोना वायरस से सतर्क रहें और घबराएं नहीं। उनहेंने अपनी सुरक्षा के लिए मास्क अवश्य पहनें और दिन में कई बार साबुन व सेनेटाईजर से हाथ धोएंटीकाकरण अवश्य करवाएंछींकते समय नाक व मुंह ढकें। भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचेंहाथ मिलाने की जगह नमस्कार करें और यदि आपको बुखारखांसी और सांस लेने में तकलीफ है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

by : pramod goyal

 फरीदाबाद, 23 अप्रैल। अतिरिक्त मुख्य सचिव राजस्व विभाग संजीव कौशल ने शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए जिला में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कांटेक्ट ट्रैसिंग व माईक्रो कंटेनमेंट जोन पर ज्यादा ध्यान फोकस किया जाए। उन्होंने कहा कि जो भी कोविड-19 पॉजिटिव मरीज मिलता है उसके कम से कम 15 संपर्कों की कांटेक्ट ट्रैसिंग की जाए और टेस्टिंग करवाई जाए। उन्होंने कहा कि हमें संक्रमण के इस चक्र को तोडऩा है लोगों को बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करवानी हैं। वीडियो कांफ्रेस में निर्देश देते हुए उन्होंने जिला में बैड की स्थिति के बारे में क्रमश: समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी प्राईवेट अस्पतालों से लगातार संपर्क में रहें। प्रत्येक अस्पताल से लगातार एडमिशन व डिस्चार्ज की जानकारी लें और इसे पोर्टल पर अपलोड करें ताकि मरीजों को किसी भी तरह की कोई दिक्कत न हो। उन्होंने मीटिंग में जिला में ऑक्सीजन की स्थिति को लेकर भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि हमारे पास ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है और प्रत्येक अस्पताल को हम ऑक्सीजन समय पर उपलब्ध करवा रहे हैं। उन्होंने निर्देश दिए कि इस कार्य के लिए एक नोडल अधिकारी की भी नियुक्ति करें ताकि अस्पतालों व ऑक्सीजन सप्लाई में पूरी तरह से तालमेल हो सके। इस पर उपायुक्त डॉ. गरिमा मित्तल ने बताया कि अतिरिक्त उपायुक्त सतबीर मान को इस कार्य के लिए नोडल अधिकारी नियुक्ति किया गया है। इसके साथ ही उन्होंने ईएसआईसी मेडिकल कालेज में तैयार किए गए कोविड अस्पताल व अन्य विषयों पर की भी क्रमवार समीक्षा की। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य लोगों को बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाएं देना है ताकि लोगों की जान बचाई जा सके। उन्होंने कहा कि आपदा के समय सभी को मिलकर कार्य करना है और किसी भी तरह का डर नहीं फैलने देना है। वीडियो कांफ्रेस में मंडल आयुक्त संजय जूनउपायुक्त डॉ. गरिमा मित्तलनगर निगम कमिश्नर जितेंद्र कुमार यादवएसडीएम परमजीत सिंह चहलएसडीएम बडख़ल पंकज कुमार सेतियासीटीएम मोहित कुमार सहित कई अधिकारी मौजूद थे।



by : pramod goyal

 जींद में जिला मुख्यालय स्थित नागरिक अस्पताल के पीपी सेंटर से बुधवार रात करीब 12 बजे 5.10 बजे कोरोना वैक्सीन की डोज चोरी हुई थी. लेकिन गुरुवार को यानी अगले ही दिन में 12 बजे चोर ने सिविल लाइन थाने के बाहर चाय की दुकान पर बैठे बुजुर्ग को एक थैला (Thief Returns Corona Vaccine) सौंपा. उसने कहा कि ये थाने के मुंशी का खाना है. थैला सौंपने के बाद ही चोर वहां से चंपत हो गया. जब पुलिस ने थैले को खोला तो इसमें सभी वैक्सीन बरामद हुईं. इसमें दो लाइन का नोट भी लिखा था. पुलिस के मुताबिक थैले के अंदर एक पर्ची भी मिली है जिस पर लिखा था “सॉरी पता नहीं था कोरोना की दवाई है.”

यब नोट सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है. आईएएस ऑफिसर अवनीष शरण ने इस नोट को ट्विटर पर शेयर किया है, साथ ही कैप्शन में लिखा है, 'एक ‘चोर' ने भी ‘जमाख़ोरों' और ‘मुनाफ़ाख़ोरों' को मानवता की सीख दे दी.'