HEADLINES


More

वाहन पंजीकरण टैक्स की चोरी करने के जुर्म में एक आरोपी को किया गया गिरफ्तार

Posted by : pramod goyal on : Wednesday, 30 September 2020 0 comments
pramod goyal
//# Adsense Code Here #//

 फरीदाबाद: सहायक पुलिस आयुक्त बल्लबगढ़ श्री जयवीर राठी की अगुवाई में थाना शहर बल्लबगढ़ की टीम ने एक आरोपी द्वारा फर्जी दस्तावेज तैयार करके वाहन पंजीकरण टैक्स की चोरी करने के जुर्म में आरोपी डम्पी को गिरफ्तार किया है।


आपको बता दें कि आरोपी रायबरेली, उत्तर प्रदेश का रहने वाला है जो फ़िलहाल नारायणा, दिल्ली में रह रहा था जिसकी डम्पी मोटर एंड क्रेन सर्विस नाम से एक कंपनी है। पूछताछ में आरोपी डम्पी ने बताया कि उसने एक क्रेन खरीदी थी जिसका दिल्ली के नएं यातायात नियमों के तहत दिल्ली में पंजीकरण नहीं हो सकता था। अत: उसने क्रेन का पंजीकरण हरियाणा में करवाने के लिए एक व्यक्ति राजेन्द्र से संपर्क किया जिसने उसे दो अन्य व्यक्तियों दीपक और ओम प्रकाश से मिलवाया।

दीपक और ओम प्रकाश ने डम्पी को बताया कि वह उसकी क्रेन का पंजीकरण बल्लबगढ़ में कम पंजीकरण फीस में करवा देंगे परन्तु उसके लिए डम्पी का एड्रेस फरीदाबाद का होना चाहिए। डम्पी दिल्ली में रह रहा था इसलिए उसके पास फरीदाबाद का एड्रेस नहीं था तो राजेन्द्र और ओम प्रकाश ने दीपक के लैपटॉप में डम्पी की कम्पनी के लेटरहैड व जीएसटी नंबर का इस्तेमाल करके डम्पी के लिए बल्लबगढ़ का सेक्टर 4 का फर्जी एड्रेस तैयार किया। डम्पी ने वही फर्जी पता सेल सर्टिफिकेट में दर्ज करवा दिया।

इसके बाद दीपक ने इन फर्जी कागजातों को बल्लबगढ़ वाहन पंजीकरण कार्यालय में जमा करवा दिया परन्तु उसमे उसने वाहन की असली कीमत जोकि 2370620 रुपए थी उसको फर्जी दस्तावेजों के माध्यम से 1001112 रुपए दर्शायी जिसके हिसाब से उसका टैक्स 60070 रुपए जमा किया गया जबकि उसकी असली कीमत के हिसाब से उसका टैक्स 142237 रुपए होना चाहिए था। इस तरह हरियाणा सरकार को कुल 82167 रुपए का राजस्व घाटा हुआ।

आपको बता दें कि सीएम फ्लाइंग में तैनात निरीक्षक जगदीश ने मार्च 2020 में आरोपी के खिलाफ षड्यंत्र रचने, फर्जी दस्तावेज तैयार करने तथा भ्रष्टाचार की विभिन्न धाराओं के तहत थाना शहर बल्लबगढ़ में मुकदमा दर्ज करवाया था जिसकी जाँच सहायक पुलिस आयुक्त बल्लबगढ़ को सौंपी गई थी। जाँच में सामने आया कि आरोपी ने टैक्स बचाने के लिए अन्य दो साथियों दीपक और ओम प्रकाश को 20000 रुपए दिए थे।  

आरोपी को अदालत में पेश करके जेल भेज दिया गया है तथा आरोपी के अन्य साथियों को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।


No comments :

Leave a Reply