HEADLINES


More

नेहरू कॉलेज में नए कोर्स शुरू कराने को लेकर NSUI ने सौंपा डीएचई के निदेशक के नाम ज्ञापन

Posted by : pramod goyal on : Saturday, 30 January 2021 0 comments
pramod goyal
Saved under : , ,
//# Adsense Code Here #//

 फरीदाबाद। आज एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री के नेतृत्व में छात्रों ने उच्चतर शिक्षा विभाग के निदेशक श्री अजित बालाजी जोशी के नाम पंडित जवाहरलाल नेहरु कॉलेज के प्राचार्य श्री एम० के० गुप्ता को पंडित जवाहरलाल नेहरू कॉलेज में नए कोर्स शुरू कराने के लिए ज्ञापन सौंपा। इस दौरान प्रोफेसर श्री राजपाल, प्रोफेसर श्री राजेश, प्रोफेसर श्री सुदेश यादव मुख्य रूप से मौजूद रहे। ज्ञापन के माध्यम से बीए जियोग्राफी ऑनर्स, एमए/एमएससी जियोग्राफी, बीए हिंदी ऑनर्स, बीएससी फिजिक्स ऑनर्स, एमएससी केमिस्ट्री, एमएससी फिजिक्स कोर्स शुरू कराने की मांग की गई। 


एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश महासचिव कृष्ण अत्री ने बताया कि भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन(NSUI) एक ऐसा छात्र संगठन हैं जोकि छात्रों की मांगों को लेकर समय-समय पर मांग उठाता रहता हैं। इसी संदर्भ में पंडित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में कुछ ऐसे कोर्स शुरू कराने की मांग उठाई जा रही हैं जोकि इस कॉलेज में नही हैं। पंडित जवाहरलाल नेहरु कॉलेज सन 1971 में बना था और सरकारी कॉलेज होने के कारण ग्रामीण आँचल तथा गरीब, किसान परिवारों से जुड़े हुए छात्रों का ध्यान इस कॉलेज की तरफ ज्यादा रहता हैं लेकिन कुछ कोर्स ऐसे हैं जोकि इस कॉलेज में ना होकर प्राइवेट कॉलेजों में हैं जहाँ पर फीस बहुत ज्यादा होने के कारण छात्र दाखिला नही ले पाते हैं।

अत्री ने बताया कि पंडित जवाहरलाल नेहरु कॉलेज में फरीदाबाद जिले के साथ-साथ पलवल तथा मेवात जिले के छात्र भी पढ़ने आते हैं लेकिन इन मुख्य कोर्सों के ना होने के कारण पढ़ाई बीच में ही छोड़ देते हैं। 6000 छात्रों की क्षमता वाले इस कॉलेज में 240 छात्र नॉन मेडिकल, 120 छात्र मेडिकल, 40 छात्र केमिस्ट्री ऑनरस, 40 छात्र बायोटेक की स्नातक की पढ़ाई करके निकलते हैं लेकिन परास्नातक में इन संकायों में पढ़ाई सुचारू रूप से नहीं कर पाते।
वही कुछ कोर्स ऐसे भी हैं जो स्नातक कक्षा में ही उपलब्ध नहीं हैं। नेहरू कॉलेज में जियोग्राफी ऑनर्स से स्नातक तथा परास्नातक कक्षाओं में शुरू कराने की भी जरूरत हैं क्योंकि यह विषय स्कूलों में भी पढ़ाया जाता हैं तथा साथ ही कॉम्पिटेटिव परीक्षाओं में भी इस विषय को मुख्य स्थान दिया जाता हैं।

No comments :

Leave a Reply