HEADLINES


More

सफाई कर्मचारी बिना सेफ्टी उपकरणों के जान जोखिम में डालकर कर रहे हैं काम - नरेश कुमार शास्त्री

Posted by : pramod goyal on : Sunday, 2 May 2021 0 comments
pramod goyal
Saved under : , ,
//# Adsense Code Here #//

 चंडीगढ़ 2 मई  - नगरपालिका कर्मचारी संघ, हरियाणा के राज्य प्रधान नरेश कुमार शास्त्री ने कोविड-19 वायरस के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर प्रदेश के पालिका, परिषद और निगमों के कर्मचारियों से स्थानीय निकाय विभाग द्वारा दी जाने वाली सभी जन सुविधाएं हर परिस्थिति में नियमित एवं सुचारू बनाए रखने की अपील की है। श्री शास्त्री ने हरियाणा सरकार से कर्मचारियों को


सेफ्टी उपकरण , समय पर वेतन  देने,एवं कोविड-19 वायरस से संक्रमित कर्मचारियों के इलाज के लिए जिला स्तर पर कोविड केयर सेंटर बनाने की भी मांग की है। श्री शास्त्री ने कहा कि इस दौर में स्थानीय निकाय द्वारा प्रदान की जाने वाली जन सुविधाएं सफाई,सीवर, स्ट्रीट लाइट, पीने की पानी की सप्लाई व जनता में जागरूकता लाने का काम कर्मचारियों के जिममे है और प्रदेश के पालिका परिषद और निगमों के कर्मचारी ईमानदारी निष्ठा के साथ अपना दायित्व निभा रहे हैं। नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के राज्य प्रधान नरेश कुमार शास्त्री, वरिष्ठ उपाध्यक्ष रमेश तुषामड, महासचिव मांगेराम तिगरा  उपप्रधान राजेन्द्र सिन्द, उपमहासचिव शिवचरण ने कहा कि प्रदेश में जहां अभी तक 4 सफाई कर्मचारियों की कोविड-19 वायरस से मौत हुई है वहीं सैकड़ों कर्मचारी संक्रमित भी हुए हैं।संघ नेताओ ने सरकार की भी कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि जनता को अति महत्वपूर्ण स्वास्थ्य जैसी सेवाएं देने वाले प्रदेश के सफाई कर्मचारियों को भी सरकार सैनिटाइजर, मास्क, गलब्स, पी पी किट, साबुन, तेल, अन्य सुरक्षा उपकरण उपलब्ध नहीं करवा पा रही है। वही  मृतक कर्मचारियों के आश्रितों को  भी सरकार ने अभी तक कोई आर्थिक सहायता या उनके आश्रितों को रोजगार नहीं दिया है। इससे प्रदेश के कर्मचारियों में सरकार के प्रति गहरी निराशा है, नगरपालिका कर्मचारी संघ, ने इससे पहले भी 14 जनवरी को पत्र लिखकर सरकार को मांगों से अवगत कराया था तथा 15 जनवरी को सभी पालिका परिषद हो के आयुक्तों एवं निगम आयुक्तों को ज्ञापन दिए तथा 4 फरवरी को उप मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री तथा प्रदेश के सभी प्रदेश के सभी राज एवं कैबिनेट मंत्रियों भी ज्ञापन देकर  सुरक्षा उपकरण देने व  मांगों  का  समाधान करने की अपील की थी लेकिन सरकार कुंभकरण की नींद में सोई हुई है। और प्रदेश के कर्मचारी महामारी के दौर में जनता की सेवा में जुटे हैं। श्री शास्त्री ने कहा कि सरकार  संवेदनहीन हो सकती है लेकिन प्रदेश के सफाई कर्मचारी संवेदनहीन नहीं उन्होंने पुनह कर्मचारियों से अपील करते हुए कहा कि मानवता के लिए यह घड़ी परीक्षा की घड़ी है इसलिए प्रदेश  के कर्मचारी इस वैश्विक महामारी के दौर में जनता के साथ खड़े होकर ईमानदारी, निष्ठा एवं  कर्मठता के साथ कार्य करते रहें ।श्री शास्त्री ने सरकार से पुनह अपील की है कि सरकार सुरक्षा उपकरण, समय पर वेतन देने एवं कर्मचारियों की आवश्यक मांगो एवं समस्याओं का समाधान करने के लिए भी रास्ता खोलें ।

No comments :

Leave a Reply