HEADLINES


More

6 महीने से वेतन न मिलने से गुस्साए टूरिज्म कर्मचारियों ने सूरजकुंड के पर्यटन केन्द्रों पर आक्रोश प्रदर्शन किया

Posted by : pramod goyal on : Thursday, 18 March 2021 0 comments
pramod goyal
Saved under : , ,
//# Adsense Code Here #//

 फरीदाबाद,18 मार्च। पिछले 6 महीने से वेतन न मिलने से गुस्साए टूरिज्म कर्मचारियों ने आज सूरजकुंड के पर्यटन केन्द्रों पर आक्रोश प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में पर्यटन केन्द्रों को निजी हाथों में सौंपने, रिटायर्ड अधिकारियों को दोबारा नौकरी पर रखने, सातवें वेतन आयोग


व हाऊस रेंट के बकाया एरियर का भुगतान न करने की घोर निन्दा की गई। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा से संबंधित हरियाणा टूरिज्म कर्मचारी संघ हरियाणा के बेनर तले आयोजित इस प्रर्दशन में होटल राजहंस व सूरजकुंड के कर्मचारियों ने भाग लिया। प्रदर्शन को हरियाणा टूरिज्म कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष मित्रपाल राणा, चेयरमैन सुरेश नौहरा, महासचिव युद्धवीर सिंह खत्री,उप महासचिव सुभाष देसवाल,उप प्रधान टीका राम शर्मा,डिगंबर डागर, सचिव विरेंद्र शर्मा,लच्छिराम, यूनिटों के नेता अशोक कुमार,राजेश यादव, ज़िले सिंह, ठाकुर सिंह, मनोज कुमार,बह्रमसिंह ज्ञान सिंह, धरमपाली आदि ने सम्बोधित किया।


सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा ने टूरिज्म निगम के कर्मचारियों के छः महीने से बकाया वेतन का भुगतान न करने और उनकी अन्य मांगों का समाधान न करने की घोर निन्दा की ओर तूरंत बकाया वेतन सहित अन्य मांगों का बातचीत से समाधान करने की मांग की। उन्होंने बताया कि हरियाणा टूरिज्म, महिला एवं बाल विकास विभाग के अंतर्गत आईसीडीएस में कार्यरत कर्मचारियों व अधिकारियों को पिछले छः महीने से वेतन नहीं मिला है। हसन खान मेवाती राजकीय चिकित्साह महाविद्यालय नल्हर में भी ठेका कर्मचारियों को दिसंबर,2020 से वेतन नहीं मिला है। जन स्वास्थ्य विभाग के पंचायती पंप आपरेटरों को 11 महीने और मेवात माडल स्कूलों के टीचिंग व नान टीचिंग स्टाफ को भी पांच महीने से वेतन नहीं मिला है। जिसके कारण इन कर्मचारियों के परिवार भूखमरी के कागार पर पहुंच गए हैं। लोन की किस्तों का भुगतान नहीं हो पा रहा है। स्कूलों की फीसें नहीं भरी जा रही है और दुकानदारों ने राशन तक देना बंद कर दिया है। सरकार व निगम प्रबंधकों के इस कर्मचारी विरोधी रवैए से कर्मचारियों में भारी आक्रोश है।

No comments :

Leave a Reply