HEADLINES


More

रोडवेज कर्मचारियों ने परिवहन मंत्री के आवास पर पहुंचकर निजीकरण के विरोध किया

Posted by : pramod goyal on : Sunday, 18 October 2020 0 comments
pramod goyal
Saved under : , ,
//# Adsense Code Here #//

 रविवार को मास-डेपुटेशन के रूप में पूरे प्रदेश से बड़ी संख्या मे रोडवेज कर्मचारियों ने फरीदाबाद में परिवहन मंत्री के आवास पर पहुंचकर निजीकरण के विरोध में तथा कर्मचारियों की मांगों को लागू करवाने के लिए जोरदार नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन किया ।


हरियाणा रोडवेज वर्कर्स यूनियन संबंधित सर्व कर्मचारी संघ के आह्वान पर निजीकरण के विरोध में तथा रोडवेज कर्मचारियों की मांगों को लेकर रविवार को पूरे प्रदेश से सैकड़ों रोडवेज कर्मचारी फरीदाबाद में सेक्टर 12 स्थित टाउन पार्क में इकट्ठा हुए यहां यूनियन नेताओं ने कर्मचारियों

को संबोधित किया तथा उसके बाद जुलूस के रूप में जोरदार विरोध प्रदर्शन करते हुए पार्क से परिवहन मंत्री के कैंप कार्यालय पहुंचे ।

मास डेपुटेशन की अध्यक्षता राज्य प्रधान इंद्र सिंह बधाना ने की तथा मंच का संचालन राज्य उपप्रधान ओमवीर शर्मा ने किया इसके अलावा सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के राज्य प्रधान सुभाष लांबा सर्व कर्मचारी संघ राज्य के वरिष्ठ उपप्रधान नरेश शास्त्री तथा सर्व कर्मचारी संघ जिला फरीदाबाद के प्रधान अशोक कुमार विशेष रूप से उपस्थित रहे ।

राज्य प्रधान इंद्र सिंह बधाना, राज्य वरिष्ठ उप प्रधान नरेंद्र दिनोद सर्व कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष लांबा मुख्य संगठन सचिव विजेंद्र सिंह अहलावत, 
ने बताया कि रोडवेज कर्मचारियों की विभिन्न मांगों का मांग पत्र यूनियन द्वारा चंडीगढ़ स्थित मुख्यालय में महानिदेशक को दिया हुआ है । लंबे समय से मुख्यालय द्वारा ज्यादातर मांगों का समाधान नहीं किया जा रहा है महानिदेशक द्वारा जानबूझकर कर्मचारियों की मांगो की अनदेखी की जा रही है कर्मचारियों की मांगों समस्याओं पर बातचीत के लिए यूनियन ने कई बार सरकार को पत्र लिखकर समय मांगा लेकिन परिवहन मंत्री तथा मुख्यालय द्वारा यूनियन को मिलने का समय नहीं दिया गया सरकार द्वारा कर्मचारियों की समस्याओं का समाधान करने की बजाय रोडवेज कर्मचारियों के साथ लगातार भेदभाव पूर्ण व्यवहार किया जा रहा है । यूनियन के प्रांतीय शिष्ट मंडल द्वारा गत 29 जुलाई को चंडीगढ़ मुख्यालय में जाकर बातचीत के लिए समय मांगने पर भी महानिदेशक ने यूनियन से मिलने से बिल्कुल मना कर दिया तथा इसके विपरीत यूनियन नेताओं व कार्यकर्ताओं के तबादले दूरदराज के डिपो में कर दिए । इसके बाद भी दमनात्मक उत्पीड़न करने में लगे हुए हैं ।
परिवहन मंत्री व रोडवेज महानिदेशक के इस व्यवहार से रोडवेज कर्मचारियों में भारी रोष है । उन्होंने कहा कि कर्मचारियों की वर्षों से छोटी-छोटी लंबित मांगों का समाधान केवल बातचीत से हो सकता है इसलिए यूनियन पुनः मांग करती है कि परिवहन मंत्री महोदय भेदभाव पूर्ण व्यवहार छोड़कर शीघ्र ही यूनियन शिष्टमंडल को बुलाकर कर्मचारियों की मांगों व समस्याओं का समाधान करें । ताकि विभाग में शांतिपूर्ण माहौल स्थापित हो सके ।

No comments :

Leave a Reply