HEADLINES


More

बर्खास्त पीटीआई 14 अगस्त को परिवार सहित गिरफ्तारी देंगे

Posted by : pramod goyal on : Wednesday, 12 August 2020 0 comments
pramod goyal
Saved under : , ,
//# Adsense Code Here #//


फरीदाबाद,12 अगस्त। पीटीआई की नई भर्ती के लिए 23 अगस्त को रखें गए टेस्ट को रद्द करने और बर्खास्त पीटीआई को बहाल करने की मांग को लेकर बर्खास्त पीटीआई 14 अगस्त को परिवार सहित गिरफ्तारी देंगे। इन गिरफ्तारियों में अन्य सभी विभागों के कर्मचारी भी हजारों की तादाद में शामिल होकर पीटीआई के साथ एकजुटता प्रकट करते हुए गिरफ्तारी देंगे। यह
निर्णय बुधवार को सेक्टर 7 स्थित जिला कार्यालय में आयोजित सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा की जिला कार्यकारिणी की बैठक में लिया गया। जिला उप प्रधान अंतर सिंह केसवाल ने अध्यक्षता की और संचालन सचिव बलबीर सिंह बालगुहेर ने किया है। बैठक में सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री व हरियाणा टूरिज्म कर्मचारी संघ के महासचिव युद्धवीर सिंह खत्री भी मौजूद थे।
सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा ने जिला कार्यकारिणी में बोलते हुए कहा कि सरकार द्वारा माननीय सुप्रीम कोर्ट में रिक्त पदों बारे दी गलत जानकारी देने व कमजोर पैरवी करने की वजह से पीटीआई सुप्रीम कोर्ट में केस हारे हैं। उन्होंने कहा कि अब सरकार इन निर्दोष बर्खास्त 1983 पीटीआई की सेवा बहाली के सभी विकल्पों पर गंभीरता से विचार करने की बजाय अपने कृत्यों पर पर्दा डालने के लिए इस मुद्दे का राजनैतिकरण करने में जुटी हुई है। उन्होंने कहा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट ने केस की सुनवाई के अंतिम दौर में सरकार से राज्य में पीटीआई के रिक्त पदों के बारे में जानकारी मांगी थी। ताकि 68 याचिकाकर्ताओं को रिक्त पदों पर एडजस्ट कर पीटीआई भर्ती को रेगुलराइज किया जा सके। लेकिन सरकार के निर्देश पर हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने 29 जनवरी,2020 को सुप्रीम कोर्ट में  पीटीआई का कोई भी पद रिक्त न होने का हलफनामा दाखिल किया गया। जबकि आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार 1 जनवरी, 2020 को 1612 पद टीजीटी फिजिकल एजुकेशन ( स्टेट केडर सर्विस रूल,2012 के अनुसार पीटीआई का बदला हुआ पदनाम) के पद रिक्त थे। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा दी गई इस गलत जानकारी देने के कारण और केस को मजबूती से डिफेंड न करने के कारण ही आज 1983 पीटीआई सड़कों पर धक्के खा रहे हैं। इसीलिए पीड़ित पक्ष ने सुप्रीम कोर्ट में फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर की हुई है। जिस पर अंतिम फैसला आना बाकी है। जब तक सरकार ने नई भर्ती प्रक्रिया को रोकना चाहिए।
सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री ने कहा कि चयन प्रक्रिया में कोई भी गड़बड़ी नहीं है और भर्ती पुरी ट्रांसपेरेंसी के साथ हुई थी तथा बदले हुए मापदंड की सभी अभ्यर्थियों को प्रोपर सूचना दी गई थी। उन्होंने कहा कि जिस बदले हुए मापदंडों के अनुसार पीटीआई की भर्ती की गई थी,इसी प्रकार  टीचरों की 6 श्रेणियों की भर्ती हो रखी थी। मीटिंग में मुख्य रूप से नगर निगम, बिजली, पशुपालन, जन स्वास्थ्य, शिक्षा, पर्यटन, स्वास्थ्य, वाईएमसीए विश्वविद्यालय, आदि विभागों के कर्मचारी हाजिर है। जिसमें मुख्य रुप से युद्धवीर खत्री राजबेल देशवाल, करतार सिंह, भीम सिंह, दर्शन सोया, रघबीर चौटाला, जगदीश चन्द्र,सुभाष देशवाल,मुकेश बेनीवाल, अशोक कुमार, सोनू सोया,नीरज ढकोलिया, सुभाष देशवाल आदि कर्मचारी उपस्थित थे

No comments :

Leave a Reply