HEADLINES


More

केंद्र सरकार श्रम कानूनों में पूंजीपतियों के हको मे मजदूर विरोधी बदलाव कर रही है

Posted by : pramod goyal on : Saturday, 15 February 2020 0 comments
pramod goyal
Saved under : , ,
//# Adsense Code Here #//
फरीदाबाद,15 फरवरी। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांंबा ने कहा कि केंद्र सरकार श्रम कानूनों में पूंजीपतियों के हको मे मजदूर विरोधी बदलाव करके मजदूरों के हितों पर कुठाराघात कर रही है।अगर सरकार संधर्षो के बल पर हासिल किए44 श्रम कानूनों को पूजीपतियों के हको मे मजदूर विरोधी संशोधन करने मे सफल रही तो मजदूर कारखाना मालिकों के बंधवा मजदूर बन कर रह जाऐंगे। प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांंबा ने यह आरोप शनिवार को नगर निगम सभागार में "कर्मचारी आंदोलन व समाजिक सरोकार" विषय पर आयोजित सेमिनार में बतौर मुख्य वक्ता बोलते हुए लगाया। जिला प्रधान अशोक कुमार की अध्यक्षता में आयोजित सेमिनार में नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रधान व सकसं के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री, हरियाणा रोड़वेज वर्कर यूनियन के मुख्य सलाहकार राम आसरे यादव ,रिटायर्ड कर्मचारी संघ हरियाणा के उपाध्यक्ष यूएम खान, जिला सचिव बलबीर सिंह बालगुहेर व कोषाध्यक्ष युदबीर सिंह खत्री उपस्थित थे। सेमिनार में एलआईसी, एयर इंडिया, आईडीबीआई बैंक को बेचने और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों व जन सेवाओं का निजीकरण करने के निर्णय की घोर निंदा की। उन्होंने उत्पीड़नकारी उदारीकरण की नीतियों के खिलाफ सभी पीड़ित लोगों को एकत्रित होकर नव उदारीकरण की नीतियों व साम्प्रदायिकता के खिलाफ और धर्मनिरपेक्षता,संविधान, जनतंत्र की रक्षा के लिए निर्णायक आंदोलन का निर्माण करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि उत्पीड़नकारी नव उदारीकरण की नीतियों के कारण आज गरीब व अमीर के बीच का अंतर बढता जा रहा है।रोजगार समाप्त करने वाला विकास हो रहा है। लोगों की खरीद की ताकत कमजोर हो रही है।जिसके कारण ही आर्थिक मंदी आई है। 

No comments :

Leave a Reply