HEADLINES


More

उच्चतर विभाग की लापरवाही, छात्रों को भुगतना पड़ रहा है खमियाजा

Posted by : pramod goyal on : Wednesday, 3 July 2019 0 comments
pramod goyal
//# Adsense Code Here #//
फरीदाबाद। आज एनएसयूआई फरीदाबाद के कार्यकर्ताओं ने पंडित जवाहरलाल नेहरू कॉलेज के गेट पर विरोध प्रदर्शन करके ऑनलाइन दाखिले प्रक्रिया में आ रही त्रुटियों को लेकर उच्च शिक्षा विभाग हरियाणा के प्रिंसिपल सेक्रेटरी का पुतला फूक कर फरीदाबाद की नोडल ऑफिसर डॉक्टर प्रीता कौशिक को हरियाणा के मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री और प्रिंसिपल सेक्रेटरी हरियाणा के नाम ज्ञापन सौंपा। इस प्रदर्शन का नेतृत्व एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश सचिव कृष्ण अत्री ने किया।

इस दौरान प्रदेश सचिव कृष्ण अत्री ने कहा कि अबकी बार उच्च शिक्षा विभाग ने दाखिले प्रक्रिया में बदलाव बहुत बदलाव किया है जिसके चलते छात्रों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अत्री ने छात्रों को आ रही परेशानियों पर प्रकाश डालते हुए 6 सूत्रीय माँग पत्र नोडल अधिकारी को सौंपा जोकि इस प्रकार है:-

1) छात्र को कॉलेज में दाखिला लेने के लिए फॉर्म भरना है और फिर उसके बाद कॉलेज में दस्तावेज चेक कराने है और अगर मेरिट लिस्ट में नाम आ जाए तो पहले फीस जमा करानी है और फिर दस्तावेज जमा कराने है लेकिन अगर दिल्ली यूनिवर्सिटी की बात करें तो वहाँ पर छात्र आवेदन करता है और फिर मेरिट लिस्ट आती हैं और मेरी लिस्ट आने के बाद दस्तावेज चेक करने के बाद फीस जमा करा दी जाती है।

2) अगर किसी छात्र ने 5 कॉलेजो में आवेदन किया है और किसी एक कॉलेज की मेरिट लिस्ट में छात्र का नाम आ जाता है तो बाकि 4 कॉलेज की मेरिट लिस्ट में छात्र का नाम नही आएगा चाहे छात्र के नंबर 90 प्रतिशत ही क्यों ना हो जबकि दिल्ली यूनिवर्सिटी में अगर एक छात्र ने एक साथ 10 कॉलेज के लिए आवेदन किया है तो उसका नाम 10 के 10 कॉलेज की मेरिट लिस्ट में आएगा।

3) अगर किसी छात्र ने 5 कोर्स में आवेदन किया है और उसका नाम किसी एक कोर्स की मेरिट लिस्ट में आ जाता है तो बाकि 4 कोर्स की मेरिट लिस्ट में नही आएगा।

4) पहले नियम था कि हरियाणा बोर्ड से 12वी किये हुए छात्रों को वेरिफिकेशन नही करानी लेकिन अंतिम तिथि को प्रशासन की तरफ से नोटिस जारी किया गया कि हरियाणा बोर्ड वालो को भी वेरिफिकेशन करानी है जिसके चलते हरियाणा के छात्रों का नाम मेरिट सूची में नही आ सका।

5) छात्रों ने प्राइवेट कॉलेज में वेरिफिकेशन नही कराई लेकिन बिना वेरिफिकेशन के भी कॉलेज की तरफ से छात्रों को दाखिला कराने के लिए मैसेज आ रहे है।

6) छात्रों से फॉर्म भरते समय जो मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड करवाया था उसपर दाखिले संबंधी कोई जानकारी मैसेज नही गई ।

कृष्ण अत्री ने हरियाणा की खट्टर सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले दिनों में शिक्षण प्रणाली में जो बदलाव इस सरकार में हुए है उनके कारण छात्रों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने ऐसे अधिकारियों को शिक्षा विभाग की जिम्मेदारी दी रखी है जो बिना जाँच पड़ताल करें नियमों को लागू कर देते है और उसका खामियाजा आम छात्रों को झेलना पड़ता है। अगर इन्हें दिल्ली यूनिवर्सिटी की तर्ज पर दाखिला प्रक्रिया हरियाणा में लागू करनी है तो पहले वहाँ की पद्धति को समझना होगा उसके बाद लागू किया जाना चाहिए।
अत्री ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर शिक्षा विभाग ने जल्द से जल्द समस्याओं का समाधान नही किया तो एनएसयूआई द्वारा प्रदेश स्तर पर आंदोलन किया जाएगा।

No comments :

Leave a Reply