HEADLINES


More

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा का 15 वां राज्य प्रतिनिधि सम्मेलन अब 16-17-18 अगस्त को

Posted by : pramod goyal on : Thursday, 4 July 2019 0 comments
pramod goyal
Saved under : , ,
//# Adsense Code Here #//
फरीदाबाद, - सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा का 15 वां राज्य प्रतिनिधि सम्मेलन अब 16-17-18 अगस्त को सर छोटूराम जाट भवन, पंचकुला में आयोजित किया जाएगा। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लांबा ने बृहस्पतिवार को जिला कार्यालय में आयोजित जिला कार्यकारिणी की मीटिंग को संबोधित करते हुए दी। उन्होंने कहा कि  इस सम्मेलन में सरकार की वादाखिलाफी और कर्मचारियों की कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुसार मकान किराए भत्तें में बढ़ोतरी करने, पुरानी पेंशन स्कीम बहाल करने व पंजाब के समान वेतनमान देने आदि मांगों की अनदेखी करने के खिलाफ आन्दोलन की रणनीति बनाई जाएगी। जिला प्रधान अशोक कुमार की अध्यक्षता में आयोजित इस मीटिंग में सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री, जिला सचिव युद्धवीर सिंह खत्री, वरिष्ठ उपाध्यक्ष गुरचरण सिंह खाडियां, नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के जिला सचिव नानक चंद खरालियां आदि उपस्थित थे। मीटिंग में सर्व सम्मति से 20 जुलाई को नगर निगम आडिटोरियम में जिला सम्मेलन आयोजित करने का फैसला लिया गया। जिसमें जिला कमेटी का चुनाव भी किया जाएगा। महासचिव सुभाष लांबा ने कार्यकारिणी को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि सत्ता के नशे में चूर सरकार के एजेंडे में सरकारी कर्मचारी एवं उनकी मांगे नहीं है। इसलिए 11 मई,2017 के बाद सरकार ने कोई बातचीत तक नहीं की है। जिसको लेकर कर्मचारियों में सरकार के खिलाफ भारी आक्रोश है।
लाई।
सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री ने कहा कि 2014 में हुए विधानसभा चुनाव के समय भाजपा द्वारा जारी धोषणा पत्र में किए पंजाब के समान वेतनमान देने, सफाई कर्मचारियों व गेस्ट टीचरों सहित कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, ठेका प्रथा को समाप्त करने ,15 हजार रुपए न्यूनतम वेतन देने, छठे वेतन आयोग की वेतन विसंगतियों को दूर करने, शिशु शिक्षा भत्ता दोगुना करने के एक भी वादें को सरकार ने पुरा नही किया। सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुसार मकान किराए भत्तें में बढ़ोतरी तक सरकार करने को तैयार नहीं है। सरकार ने सचिवालय में कार्यरत ड्राईवर को साल में 13 महीने का वेतन देने का निर्णय किया है। लेकिन फिल्ड के ड्राईवर को यह लाभ नहीं दिया है। जबकि फिल्ड के ड्राईवर भी निश्चित समय से ज्यादा ड्युटियां कर रहे हैं। इसी प्रकार सरकारी कालेज में कार्यरत अनुबंध एक्सटेंशन लक्चरर को समान काम समान वेतन दिया है। लेकिन युनिवर्सिटी में अनुबंध पर लगे असिस्टेंट प्रोफेसर,टिचिंग असिस्टेंट को इस लाभ से वंचित कर दिया है।  उन्होंने बताया कि सम्मेलन में उपरोक्त तमाम मुद्दों पर विचार-विमर्श कर राज्य प्रतिनिधि सम्मेलन में आंदोलन की रणनीति बनाई जाएगी।

No comments :

Leave a Reply